पुरुषों के लिए वरदान है शिलाजीत क्या आप जानते हैं इसके फायदे

shilajit एक प्राकृतिक औषधि है जो पहाड़ी क्षेत्रों, विशेष रूप से हिमालय, तिब्बत, और अल्ताई पर्वत श्रृंखलाओं की चट्टानों में पाया जाता है। इसे आयुर्वेद, सिद्ध, और यूनानी चिकित्सा पद्धतियों में प्राचीनकाल से उपयोग किया जाता रहा है।

shilajit

shilajit में विभिन्न औषधीय गुण होते हैं, जिनमें अमीनो एसिड्स, विटामिन्स, और मिनरल्स शामिल होते हैं। इसमें ग्लिसरॉल और अन्य औषधीय गुण भी पाए जाते हैं। शिलाजीत विशेष रूप से पुरुषों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि इसमें पुरुषों की मर्दानगी को बढ़ाने, प्रजनन क्षमता को बढ़ाने, और हृदय स्वास्थ्य को सुधारने की क्षमता होती है।

 

shilajit का सेवन शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकता है, और इसका उपयोग जीवन की ऊर्जा को बढ़ाने, लंबी आयु को बनाए रखने, और सामान्य कल्याण के लिए किया जाता है।

 

shilajit का पोषण मूल्य अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसे अंग्रेजी में ‘मिनरल वैक्स’ या ‘मिनरल पिच’ के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा, इसे ‘बराहशीन’, ‘डोरोबी’, ‘शारगाई’, और ‘ब्लैक डामरटम’ भी कहा जाता है। इसका स्वरूप उफोर्बिया रॉयलियाना के समान होता है, जो कि एक पौधा है जो कैक्टस की तरह दिखता है।

 

shilajit में विटामिन और अमीनो एसिड के अंश होते हैं और यह जैविक और भूवैज्ञानिक रूप से प्राप्त होता है। यह उपचारात्मक भी है और इसमें ग्लिसरॉल भी होता है, जो कि इसे एक औषधि बनाता है। इसके पोषण मूल्य का समय-समय पर सेवन करने से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार देखा जा सकता है।

 

जी हां, shilajit पुरुषों के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत उपयुक्त है। इसमें पाए जाने वाले अमीनो एसिड और विटामिन अंशों की जैविक और भौगोलिक उत्पत्ति होती है। इसमें ग्लिसरॉल और औषधीय गुण भी मौजूद होते हैं। इसमें मजबूत एंटीऑक्सीडेंट और पोषण गुणों के साथ-साथ पुरुष प्रजनन स्वास्थ्य के लिए संभावित लाभ भी होते हैं। शिलाजीत का नियमित सेवन करने से पुरुषों की मर्दानगी, संभोग क्षमता, और यौन स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है।

 

shilajit एक प्राकृतिक उपचार है जिसमें कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यहाँ शिलाजीत के मुख्य स्वास्थ्य लाभों की एक सूची है:

1. शक्ति और स्थायित्व को बढ़ाएँ: शिलाजीत में मौजूद पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट्स का सेवन शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है।

2. ऊर्जा स्तर में सुधार: यह ऊर्जा स्तर को बढ़ाने में मदद करता है और थकान को कम करता है।

3. टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाता है: शिलाजीत में पाए जाने वाले तत्व टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ा सकते हैं, जो मर्दानगी और स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।

4. सहनशक्ति और सहनशक्ति बढ़ाएँ: शिलाजीत का सेवन सहनशक्ति और सहनशीलता को बढ़ा सकता है, जिससे शारीरिक और मानसिक तनाव को कम किया जा सकता है।

5. शक्तिशाली कामोत्तेजक: यह कामोद्दीपक के रूप में कार्य करता है और सेक्सुअल प्रदर्शन में सुधार कर सकता है।

6. मनोविज्ञानिक लाभ: इसका सेवन मानसिक स्थिति को सुधार सकता है और तनाव को कम कर सकता है।

7. हृदय स्वास्थ्य में सुधार: शिलाजीत का सेवन हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है और हृदय संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है।

8. रोगों की रोकथाम: इसे नियमित रूप से लेने से शारीरिक प्रतिरक्षा बढ़ती है और जीर्ण रोगों की रोकथाम होती है।

9. पाचन को सुधारें: शिलाजीत का सेवन पाचन को सुधारता है और अपाचन की समस्याओं को दूर करता है।

10. उत्तेजक: यह उत्तेजक और ताकतवर होने के लिए माना जाता है और शारीरिक क्षमताओं को बढ़ा सकता है।

11. श्वासनली स्वास्थ्य को बढ़ावा: इसका सेवन फेफड़ों की स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है और श्वासनली की सम

टेस्टोस्टेरोन लेवल बढ़ाने के लिए, शिलाजीत एक प्रभावी उपाय हो सकता है। शिलाजीत में मौजूद पोषक तत्व और औषधीय गुण पुरुषों के शुक्राणुओं को प्रोत्साहित करते हैं और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ा सकते हैं। विशेष रूप से, दिन में दो बार 250 मिलीग्राम प्रसंस्कृत शिलाजीत की खुराक लेने से टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार हो सकता है

 

मोटापे से निपटने के लिए, शिलाजीत एक अच्छा संबंधी हो सकता है। यह मोटापे और थकान के खिलाफ लड़ने की क्षमता बढ़ाता है। शिलाजीत का सेवन करने से आपके मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा मिलता है, जिससे आपकी कैलोरी बर्न होती है और आप वजन कम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा, यह आपकी भूख को शांत करने में मदद करता है और अधिक खाने पर नियंत्रण बनाए रखता है।

 

पुरानी थकान से छुटकारा पाने के लिए शिलाजीत एक अच्छा संबंधी हो सकता है। यह लक्षणों को कम करने के साथ-साथ समग्र कोशिका कार्य में सुधार करने की क्षमता रखता है। शिलाजीत में माना जाता है कि एडाप्टोजेनिक गुण होते हैं जो शरीर को तनाव से निपटने और सहनशक्ति बढ़ाने में मदद करते हैं।

 

हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करें

उच्च कोलेस्ट्रॉल से हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन चिंता न करें; यदि आपके पास शिलाजीत है, तो यह आपकी कोशिकाओं को कितनी अच्छी तरह से क्षति से सुरक्षित रख सकता है। कई शोधकर्ताओं के अनुसार, यह रक्तचाप और नाड़ी दर में मदद करता है।

 

घावों का इलाज करें

पुरुषों को मुख्य रूप से जलने, गिरने, खेलने और साइकिल चलाने से घाव का सामना करना पड़ता है। हालांकि, इसे ठीक होने में समय लगता है। हालांकि, शिलाजीत में सूजनरोधी गुण होते हैं जो ऊतक पुनर्जनन को प्रोत्साहित करते हैं और आपके शरीर की घाव भरने की प्रक्रिया को तेज करते हैं।

 

लीवर की बीमारी का इलाज

लिवर की बीमारियाँ जितनी दिखती हैं उससे कहीं अधिक जटिल हैं। लेकिन, सामान्य तौर पर शिलाजीत को लीवर के स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा जैविक तत्व माना जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें लीवर में कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने की ताकत होती है।

 

एनीमिया को तेजी से रोकें

हीमोग्लोबिन या लाल रक्त कोशिकाओं की कमी से एनीमिया होता है, जिससे रक्त की ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता कम हो जाती है। शिलाजीत की खुराक धीरे-धीरे आपके मैंगनीज, तांबे और लोहे के स्तर को बढ़ा सकती है, जिससे आपकी सेहत को लाभ हो सकता है।

 

पाचन में मददचाहे आप भारी भोजन करते हों या उच्च वसा वाले व्यंजनों के प्रति आकर्षित हों, जो पाचन संबंधी समस्याओं का कारण बनते हैं, शिलाजीत की खुराक लेने का विचार करें।

 

हृदय स्वास्थ्य में सुधार

shilajit में आयरन, तांबा, मैंगनीज, फ्लुविक एसिड, और ग्लूटाथियोन जैसे कुछ एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो हृदय रोगों के खिलाफ रक्षात्मक रेखा बनाते हैं। यह शरीर के अंगों, विशेषकर हृदय से विषाक्त पदार्थों को ख़त्म करता है और आयुर्वेदिक दवाओं का सेवन करके आप अपने सम्पूर्ण हृदय स्वास्थ्य में सुधार सकते हैं।

 

मेटाबॉलिज्म में सुधार

अगर आप भारी भोजन करते हैं, तो आप अक्सर दोगुनी कैलोरी का उपभोग करते हैं। अच्छे पाचन के लिए, आपको पाचक फाइबर का सेवन करना चाहिए। शिलाजीत में पाचक फाइबर होता है, जो आपके शरीर को विषाक्त पदार्थों से छुटकारा दिलाता है और आपको अधिक ऊर्जा प्रदान करता है।

 

मधुमेह का प्रबंधन करें

shilajit में फ्लुविक एसिड प्रचुर मात्रा में होता है, जो अग्न्याशय बीटा कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले मुक्त कणों को निष्क्रिय करता है। यह अग्न्याशय की इंसुलिन जारी करने की क्षमता को बहाल करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है। यदि आपको टाइप 2 मधुमेह है तो चिंता न करें; यह अभी भी प्रबंधनीय है।

 

अल्जाइमर रोग

शिलाजीत में फुल्विक एसिड होता है, जो न्यूरॉन कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाता है। क्योंकि यह प्राकृतिक है, यह पारंपरिक उपचार का बेहतर विकल्प हो सकता है।

 

ऊंचाई की बीमारी में मदद

शिलाजीत एक प्राकृतिक पूरक है जो आपको स्व-उपचार में मदद करता है, खासकर जब आप सिरदर्द, मतली, चक्कर आना, तेज़ दिल की धड़कन आदि जैसे लक्षणों का अनुभव करते हैं। इसके एडाप्टोजेनिक गुणों के कारण आपका शरीर किसी भी प्रकार के तनाव को आसानी से

shilajit का सेवन कैसे करें?
शिलाजीत पाउडर और तरल रूप में उपलब्ध है। सुप्लीमेंट्स का उपयोग करते समय, हमेशा सुनिश्चित करें कि आप दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं। यदि आप तरल रूप में पूरक खरीदते हैं, तो निर्देशों का पालन करें और मटर या चावल के दाने के आकार का एक टुकड़ा तरल में घोलें, और इसे दिन में एक से तीन बार पिएं। इसके अलावा, आप शिलाजीत पाउडर को दिन में दो बार दूध के साथ ले सकते हैं। यदि आप पूछ रहे हैं कि “प्रतिदिन कितना शिलाजीत”, तो सामान्य अनुशंसा 300 और 500 मिलीग्राम के बीच है, लेकिन आपको किसी भी शिलाजीत का उपयोग करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

 

shilajit की सुझाई गई खुराक इस प्रकार है:
– शिलाजीत पाउडर: प्रतिदिन एक बार 2-4 चुटकी लें, या चिकित्सक के बताए अनुसार लें।
– शिलाजीत कैप्सूल: शिलाजीत की एक गोली दिन में दो बार या चिकित्सक के बताए अनुसार लें।

 

इसके अलावा, शिलाजीत को बिल्कुल निर्धारित अनुसार लेना और यदि आपके पास इसका उपयोग करने के तरीके के बारे में कोई प्रश्न या चिंता है तो स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से बात करना महत्वपूर्ण है।

 

जब अनुचित तरीके से, अत्यधिक या बिना प्रिस्क्रिप्शन के लिया जाता है, तो शिलाजीत के असामान्य नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं, जिनमें से कुछ में निम्नलिखित शामिल हैं:
– थकावट और कमजोरी महसूस होना।
– हाथ-पैर ठंडे लगना।
– माइग्रेन।
– अनियमित हृदय धड़कन।
– त्वचा पर दाने और सूजन।

 

इसके अलावा, यदि किसी व्यक्ति को थैलेसीमिया, आयरन की अधिकता या इससे एलर्जी है तो शिलाजीत का उपयोग बंद करने की सिफारिश की जाती है। यदि आप इस आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी को लेने के बाद असहज महसूस करते हैं या ऊपर सूचीबद्ध किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो कृपया डॉक्टर को देख

 

shilajit लेते समय ध्यान देने योग्य कई एहतियाती कदम हैं। यहाँ कुछ उनमें सुझाव दिए जा रहे हैं:

 

1. हेमोक्रोमैटोसिस: हेमोक्रोमैटोसिस की समस्या होने पर शिलाजीत का सेवन बचाव किया जाना चाहिए। इससे पहले, एक चिकित्सक से परामर्श करें।

2. दिन में अधिक मात्रा: प्रतिदिन 350-500 मिलीग्राम से अधिक शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए। समय-समय पर अपने चिकित्सक से सलाह लें।

3. टेस्टोस्टेरोन की समस्या: यदि आपको टेस्टोस्टेरोन की समस्या है, तो शिलाजीत का सेवन से बचें। फिर भी, इसे लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करें।

4. गर्मियों में सतरंगी सेवन: गर्मियों में, शिलाजीत को उचित रूप से पतला करना चाहिए। इसका मतलब है कि आप इसे दिन में कुछ पानी के साथ ले सकते हैं, ताकि आपके शरीर को उसके सभी लाभ मिल सकें।

 

निष्कर्ष में, शिलाजीत आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है, लेकिन इसका सही तरीके से उपयोग करना महत्वपूर्ण है। यदि आपको कोई संदेह हो तो डॉक्टर से परामर्श करें।

shilajit

 

Related Posts

Nightfall Rokne Ke Upay in Hindi

रिलेटेड जानी जानेवाली तमाम बीमारियों में से एक है नाईट फॉल यानी स्वप्नदोष। सोते समय वीर्य का स्वतः ही निकल जाना नाईट फॉल कहलाता है। युवावस्था में यह एक आम…

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

health tips रात को सोने से पहले कुछ विशेष कार्यों को करना ज्योतिष शास्त्र में महत्वपूर्ण माना गया है, जो आपके भाग्य को सुधारने में मदद कर सकते हैं। इसमें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

Nightfall Rokne Ke Upay in Hindi

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

Rahul Gandhi

Rahul Gandhi

Tank vs Martin

Tank vs Martin

Meloni

Meloni

Eid ul Adha

Eid ul Adha