नए घर में प्रवेश करने से पहले करें ये कम नहीं हो सकती है अनहोनी

griha pravesh

 

नए घर में प्रवेश करना जीवन का एक महत्वपूर्ण और विशेष अवसर होता है, जो नई शुरुआत का प्रतीक होता है। भारतीय संस्कृति में, जब प्रॉपर्टी खरीदने या नए घर में शिफ्ट होने की बात आती है, तो शुभ मुहूर्त को बहुत महत्व दिया जाता है। वे मानते हैं कि शुभ मुहूर्त में गृह प्रवेश समारोह आयोजित करना उनके लिए सौभाग्य और समृद्धि लाता है।

griha pravesh

गृह प्रवेश एक महत्वपूर्ण हिंदू अनुष्ठान है, जिसमें शुभ मुहूर्त पर पूजा और हवन का आयोजन किया जाता है। यह पूजा तब की जाती है जब कोई व्यक्ति पहली बार अपने नए घर में प्रवेश करता है। इस अनुष्ठान का उद्देश्य नए घर को शुद्ध करना और उसमें सकारात्मक ऊर्जा का संचार करना होता है।

 

गृह प्रवेश समारोह में विशेष मंत्रों का उच्चारण, हवन, और अन्य धार्मिक क्रियाएं की जाती हैं, ताकि घर में शांति, समृद्धि और सुख-समृद्धि बनी रहे। यह माना जाता है कि इस प्रकार के अनुष्ठान से घर में निवास करने वाले सभी लोगों के जीवन में सुख, शांति और समृद्धि आती है।

सामान्यतः, गृह प्रवेश पूजा की शुभ तिथियां ज्योतिषीय चार्ट के आधार पर पुजारी द्वारा निर्धारित की जाती हैं। इसके अलावा, सकारात्मक ऊर्जा सुनिश्चित करने और परिवार के लिए समृद्धि लाने के लिए गृह प्रवेश पूजा विधि के कई दिशानिर्देश होते हैं जिनका पालन करना आवश्यक है।

 

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि नए घर में प्रवेश करने से पहले हिंदू कैलेंडर के अनुसार, या किसी ज्योतिष और वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ से परामर्श करके शुभ तिथि, दिन और नक्षत्र का चयन करना चाहिए। यह सुनिश्चित करता है कि घर में प्रवेश शुभ और मंगलमय हो।

 

गृह प्रवेश पूजा विधि के दौरान घर के प्रवेश द्वार को सजाना और मंत्रों का जाप करना अनिवार्य माना जाता है। ये क्रियाएं घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं और परिवार के सभी सदस्यों के लिए सुख, शांति और समृद्धि लाती हैं।

 

गृह प्रवेश के समय कुछ अन्य महत्वपूर्ण निर्देशों का भी पालन करना चाहिए, जैसे कि:

1. सफाई: नए घर में प्रवेश से पहले पूरी सफाई करना अत्यंत आवश्यक है। यह घर को शुद्ध करता है और नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है।

2. मांगलिक सजावट: घर के मुख्य द्वार पर तोरण, बंदनवार और रंगोली बनाकर सजावट करना शुभ माना जाता है।

3. मंत्रोच्चारण: पूजा के दौरान सही मंत्रों का उच्चारण करना चाहिए। यह घर में सकारात्मक ऊर्जा और ईश्वरीय आशीर्वाद का संचार करता है।

4. हवन और दीप प्रज्वलन: हवन और दीप प्रज्वलन से घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और वातावरण पवित्र होता है।

इन सभी विधियों और दिशानिर्देशों का पालन करके, आप अपने नए घर में शुभ और सुखदायक प्रवेश सुनिश्चित कर सकते हैं, जो आपके परिवार के लिए समृद्धि और खुशहाली लाएगा।

 

griha pravesh पूजा: गृह प्रवेश क्या है

गृह प्रवेश समारोह एक महत्वपूर्ण हिंदू पूजा है, जो नए घर में प्रवेश करने के समय पर्यावरण को शुद्ध करने और घर को नकारात्मक ऊर्जा से बचाने के लिए आयोजित की जाती है। इस अनुष्ठान के माध्यम से, नए घर में सुख-समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा का संचार किया जाता है।

 वास्तु शास्त्र और गृह प्रवेश

मुंबई की वास्तु शास्त्र और ज्योतिष विशेषज्ञ जयश्री धमानी के अनुसार, गृह प्रवेश सिर्फ घर के मालिक के लिए ही नहीं, बल्कि सभी लोगों के लिए आवश्यक होता है। वास्तु के अनुसार, घर पांच तत्वों से मिलकर बना है – सूर्य, धरती, पानी, अग्नि और वायु। इन सभी तत्वों का सही तालमेल ही घर में खुशियां, स्वास्थ्य और समृद्धि लाता है। भारत में विभिन्न भाषाओं में गृह प्रवेश को अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जैसे तेलुगु में गृह प्रवेश या गृहप्रवेसम और बंगाली में गृहोप्रोबेष।

 शुभ मुहूर्त

धमानी ने कहा कि यदि शुभ समय में घर में प्रवेश किया जाए तो यह जीवन को आसान बना देता है और परिवार को कम परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गृह प्रवेश के लिए वसंत पंचमी, अक्षय तृतीया, गुडी पड़वा और दशहरा जैसे दिन शुभ माने गए हैं। जबकि उत्तरायण, होली, अधिकमास और श्राद्ध पक्ष अशुभ माने जाते हैं।

दशहरे पर गृह प्रवेश

यदि आप दशहरे के दिन नए घर में प्रवेश कर रहे हैं, तो किसी विशेष शुभ समय की आवश्यकता नहीं होती, क्योंकि इस दिन का हर लम्हा शुभ माना जाता है। गृह प्रवेश से पहले एक कलश पूजा भी होती है। इसके लिए तांबे के कलश को 9 प्रकार के अनाजों से भरा जाता है और उसमें एक सिक्का डाला जाता है। इसके बाद कलश पर एक नारियल रखा जाता है और व्यक्ति पुजारी द्वारा निर्देशित मंत्रों के साथ घर में प्रवेश करता है।

 गृह प्रवेश पूजा विधि

1. तारीख और मुहूर्त का चयन: शुभ तिथि, दिन और नक्षत्र का चयन ज्योतिष या वास्तु विशेषज्ञ से परामर्श करके करें।
2. सफाई और सजावट: घर को अच्छी तरह साफ करें और मुख्य द्वार पर तोरण, बंदनवार और रंगोली बनाएं।
3. कलश पूजा: तांबे के कलश को 9 प्रकार के अनाजों से भरें और उसमें एक सिक्का डालें। कलश पर नारियल रखें।
4. मुख्य पूजा: पुजारी द्वारा निर्देशित मंत्रों का उच्चारण करें और हवन करें।
5. दीप प्रज्वलन: पूरे घर में दीये जलाएं ताकि सकारात्मक ऊर्जा का संचार हो सके।
6. प्रसाद वितरण: पूजा के बाद प्रसाद वितरित करें और घर में सुख-समृद्धि की कामना करें।

इस प्रकार, गृह प्रवेश पूजा का सही तरीके से आयोजन करके आप अपने नए घर में सुख, शांति और समृद्धि ला सकते हैं।

गृह प्रवेश समारोह: महत्व

परंपरागत रूप से, लोग गृह प्रवेश समारोह आयोजित करके और इस अवसर पर दोस्तों और परिवार को आमंत्रित करके अपने नए घर में पहला प्रवेश सेलिब्रेट करते हैं। ‘हाउसवार्मिंग’ शब्द की उत्पत्ति संभवतः बरसों पहले हुई थी, जब घर में केंद्रीय हीटिंग की सुविधा नहीं होती थी। घर को वास्तव में ‘गर्म’ करने के लिए, मेहमान लकड़ी लाकर चिमनी में आग जलाते थे और इसके चारों ओर इकट्ठा होते थे।

 गृह प्रवेश पूजा क्यों करनी चाहिए

गृह प्रवेश समारोह पारंपरिक रूप से नए घर में जाने के तुरंत बाद आयोजित किया जाता है। यह पूजा पुजारी द्वारा निर्धारित नियमों और वास्तु दिशानिर्देशों के अनुसार की जाती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, परिवार की भलाई के लिए नए घर में गृह प्रवेश पूजा अवश्य करनी चाहिए। इसके कुछ प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं:

1. नकारात्मक ऊर्जा से सुरक्षा: गृह प्रवेश पूजा करने से बुरी शक्तियों से घर की सुरक्षा सुनिश्चित होती है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
2. पवित्र और दिव्य वातावरण: यह अनुष्ठान घर और उसके आसपास के वातावरण को पवित्र और आध्यात्मिक बनाता है।
3. समृद्धि और सौभाग्य: यह पूजा घर के निवासियों के लिए समृद्धि, सौभाग्य और अच्छा स्वास्थ्य लाती है।
4. समस्याओं का निवारण: जीवन के नए चरण में आने वाली समस्याओं को दूर करने में मदद करती है।
5. देवताओं का आशीर्वाद: पूजा के दौरान देवताओं और नौ ग्रहों का आह्वान किया जाता है, जो अशुभ घटनाओं को रोकने में मदद करता है।

 

 गृह प्रवेश में कौन सी तीन चीजें लानी चाहिए?

गृह प्रवेश के लिए पारंपरिक रूप से तीन चीजें लानी चाहिए: नमक, शराब, और रोटी। इनका प्रतीकात्मक महत्व है:
– रोटी: ‘यह घर कभी भूख न जाने’।
– शराब: ‘आप हमेशा खुश रहें और कभी प्यासे न रहें’।
– नमक: ‘आपकी जिंदगी में हमेशा स्वाद और मसाला हो’।

 

 गृह प्रवेश पूजा: पूजा से पहले की जाने वाली चीजें

1. शुभ तिथि चुनें: अपने नए घर में प्रवेश करने से पहले गृह प्रवेश पूजा के लिए शुभ तिथि चुनें। शुभ मुहूर्त में प्रवेश करने से सकारात्मक ऊर्जा, सौभाग्य और समृद्धि का प्रवाह होता है। दशहरा और दिवाली जैसे त्योहार गृह प्रवेश के लिए बहुत भाग्यशाली माने जाते हैं।

2. फिनिशिंग और कंस्ट्रक्शन से जुड़े काम पूरे करें: गृह प्रवेश पूजा तभी करें जब घर का सारा निर्माण कार्य पूरा हो जाए। नए घर में तभी जाएं जब वह पूरी तरह से तैयार हो।

 

3. वास्तु के अनुसार घर: सुनिश्चित करें कि घर वास्तु के अनुसार हो, खासकर पूजा घर और मुख्य प्रवेश द्वार का स्थान।

 

4. निमंत्रण भेजें: गृह प्रवेश समारोह में परिवार और दोस्तों को आमंत्रित करके उनका आशीर्वाद और शुभकामनाएं प्राप्त करें।

 

 गृह प्रवेश के लिए शुभ महीने

गृह प्रवेश के लिए माघ, फाल्गुन, वैशाख और ज्येष्ठ के महीने सबसे अच्छे माने जाते हैं। वहीं, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन और पौष के महीने गृह प्रवेश के लिए अनुकूल नहीं होते।

इन सभी दिशानिर्देशों और परंपराओं का पालन करके, आप अपने नए घर में शुभ और सुखद प्रवेश सुनिश्चित कर सकते हैं, जो आपके परिवार के लिए समृद्धि और खुशहाली लाएगा।

 

griha pravesh पूजा: पूजा वाले दिन क्या करें

 घर के एंट्रेंस को सजाएं

मुख्य द्वार को सजाना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसे ‘सिंह द्वार’ कहा जाता है और यह ‘वास्तु पुरुष’ का चेहरा है। गृह प्रवेश पूजा के दिन सुनिश्चित करें कि सामने के प्रवेश द्वार को फूलों, गेंदे के फूल और आम के ताजे पत्तों के तोरण से सजाया गया हो। प्रवेश द्वार पर आम के पत्तों और नींबू से बनी डोरी लगाएं, जिससे नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।

 

मुख्य द्वार पर स्वास्तिक चिन्ह या देवी लक्ष्मी के चरण भी लगाए जा सकते हैं, क्योंकि ये समृद्धि और अच्छी किस्मत के प्रतीक हैं। दोनों सिरों पर गो-पद्म, कमल या अन्य आध्यात्मिक चिन्ह भी लगाए जा सकते हैं।

 

मुख्य द्वार के वास्तु शास्त्र दिशानिर्देश

1. ग्राउंड लेवल से ऊपर: सुनिश्चित करें कि घर ग्राउंड लेवल पर नहीं है, प्रवेश द्वार पर कुछ सीढ़ियां बनाएं।
2. उच्च गुणवत्ता की सामग्री: मुख्य द्वार अच्छी क्वालिटी वाली सामग्री से बनाएं और काले रंग के इस्तेमाल से बचें।
3. नेम प्लेट: प्रवेश द्वार पर नेम प्लेट लगाएं।
4. दहलीज: सामने के दरवाजे पर पत्थर या लकड़ी की दहलीज डिजाइन करें, यह पैसे के नुकसान से बचाएगा।
5. साफ-सुथरा: प्रवेश द्वार को साफ-सुथरा रखें, डस्टबिन या शू रैक से बचें।

 

 रंगोली बनाएं

रंगोली त्योहारों के मौसम का पर्याय है और माना जाता है कि यह धन और समृद्धि को आकर्षित करती है। प्रवेश द्वार के पास चावल के आटे या चमकीले रंगों से रंगोली बनाएं, जो देवी लक्ष्मी को आमंत्रित करती है। सुनिश्चित करें कि रंगोली लोगों के घर में प्रवेश करने के रास्ते में न हो।

 

 पूरे घर को साफ करें

गृह प्रवेश पूजा से पहले पूरे घर की अच्छी तरह से सफाई करें। यह आपके नए घर में सकारात्मकता और पॉजिटिव एनर्जी को आमंत्रित करेगा। पूजा शुरू करने से पहले हर कोने को नमक के पानी से पोछें, जिससे नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। नमक, नींबू के रस और सफेद सिरके के मिश्रण से फर्श को धो सकते हैं। हवन (जड़ी-बूटियों और लकड़ी को जलाने की प्रक्रिया) भी स्थान को शुद्ध करने और वातावरण को साफ करने में मदद करता है।

 

 घर को शुद्ध करें

पूरे घर में गंगाजल छिड़कें। अनुपयोगी कोनों में एक कलश में गंगाजल रखें और उस पर कच्चे आम के पत्ते रखें। हर जगह गंगाजल छिड़कने के लिए इन पत्तियों का उपयोग करें, जिससे घर से नकारात्मक ऊर्जाओं का नाश होता है।

 

 

griha pravesh में फूलों की सजावट

मेन डोर और पूजा एरिया के अलावा पूरे घर को फूलों से सजाएं। ताजे फूल घर को बेहद खुशनुमा बनाते हैं। मेहराब, कोनों और सेंटरपीस के लिए ताजे फूलों का इस्तेमाल करें। पारंपरिक थीम वाले तार और माला की सजावट के लिए गेंदा, ट्यूब गुलाब और शेवंती आदि का उपयोग कर सकते हैं। फ्लोरल बॉल्स और हैंगिंग्स का भी उपयोग करें। अगर आपको पश्चिमी शैली पसंद है, तो मोती के हैंगिंग या रंगीन ड्रेप्स के साथ लिलियम, ऑर्किड, गुलाब और कार्नेशन्स का चुनाव करें।

 

 नारियल फोड़ना

नये घर के गृह प्रवेश में घर की महिला को नारियल तोड़ना चाहिए और इसे दहलीज पर रखना चाहिए। यह घर की सभी बाधाओं को दूर करने का प्रतीक माना जाता है। इसके बाद भगवान गणेश की मूर्ति या फोटो लेकर घर में प्रवेश करें।

griha pravesh

 

 नए घर में दाहिने पैर से प्रवेश करें

गृह प्रवेश के शुभ दिन पति और पत्नी को मंगल कलश लेकर एक साथ घर में प्रवेश करना चाहिए। प्रवेश करते समय पति को अपना दाहिना पैर और पत्नी को बायां पैर पहले रखना चाहिए। प्रवेश के दौरान भगवान गणेश के मंत्रों का जाप करते हुए कलश को ईशान कोण या मंदिर में स्थापित करें।

 

griha pravesh पूजा के लिए एक मंडल बनाएं

गृह प्रवेश पूजा अनुष्ठान शुरू करने से पहले मंडला चित्र बनाएं, जो आध्यात्मिक प्रतीकों का एक ज्यामितीय विन्यास है। यह देवताओं और ग्रहों का आह्वान करने और उनके आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए किया जाता है। मूर्तियों को घर की पूर्व दिशा में रखें और देवता को पूर्वोत्तर क्षेत्र में रखें। आध्यात्मिक ऊर्जा को आकर्षित करने और दिव्य सुरक्षा के लिए मूर्ति के सामने दो दीपक जलाएं तथा भगवान को भोग प्रसाद के रूप में मिठाई, फूल और फल चढ़ाएं।

 

कलश लगाएं

गृह प्रवेश की पूजा में तांबे के बर्तन में गंगाजल या किसी नदी के पानी से कलश भरकर मूर्ति के पास रखें। कलश पूजा करें। कलश में नौ प्रकार के अनाज और एक सिक्का डालें। एक नारियल के चारों ओर कलावा तथा लाल कपड़ा बांधकर उसे कलश पर रखें और उसके किनारों पर चार आम के पत्ते रखें। उसके बाद कलश को हवन के पास रखा जाना चाहिए।

griha pravesh

 घर को रोशन करें

गृह प्रवेश के दिन सुनिश्चित करें कि पूरा घर, विशेष रूप से मुख्य द्वार, अच्छी तरह से प्रकाशित हो। घर के किसी भी क्षेत्र में अंधेरा नहीं होना चाहिए। घर को रोशन करने के लिए लैंप, एलईडी लाइट या फेयरी लाइट का विकल्प चुनें। मिट्टी का दीपक जलाने से सौभाग्य और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

 

 आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए दूध उबालें

नए बर्तन में दूध उबालना गृह प्रवेश अनुष्ठान का अभिन्न हिस्सा है। मान्यता के अनुसार, गृह प्रवेश समारोह के दौरान दूध उबालने की रस्म घर में समृद्धि सुनिश्चित करती है। घर की महिला को किचन में दूध उबालना चाहिए। आमतौर पर खीर का प्रसाद बनाने के लिए चावल और चीनी मिलाई जाती है और इसे देवताओं को चढ़ाया जाता है।

 

griha pravesh के दिन मेहमानों के लिए भोजन की योजना बनाएं

गृह प्रवेश के दिन अपने मेहमानों के लिए भोजन की पहले से योजना बनाएं। क्योंकि पूजा एक शुभ दिन पर की जाती है, इसलिए शाकाहारी भोजन की व्यवस्था करना बेहतर होता है। भोजन पहले पुजारी को और फिर मेहमानों को अर्पित करें। प्रसाद, जैसे हलवा या खीर, गृह प्रवेश के दिन बनाया जाता है।

 

मेहमानों के बैठने की उचित व्यवस्था करें

गृह प्रवेश समारोह में आमतौर पर लोगों को पूजा के लिए फर्श पर बैठने की आवश्यकता होती है। फर्श पर दरी या गद्दे रखें या उन मेहमानों के लिए कुर्सियों की व्यवस्था करें जो फर्श पर बैठने में असमर्थ हैं।

गृह प्रवेश के समय ध्यान रखने वाली बातें griha pravesh

 प्रवेश के समय

1. पहले दाहिना पैर रखें: घर में प्रवेश करते समय हमेशा दाहिने पैर से प्रवेश करें। यह शुभ माना जाता है।
2. शुभ वस्तुएं साथ ले जाएं: घर के मालिक और मालकिन को पाँच शुभ वस्तुएं – नारियल, पीली हल्दी, गुड़, चावल और दूध – लेकर प्रवेश करना चाहिए।
3. उपयुक्त कपड़े पहनें: गृह प्रवेश के लिए शुभ रंग वाले कपड़े पहनें और काले रंग से बचें।

 प्रवेश की विधि

1. प्रियजनों के साथ प्रवेश: गृह प्रवेश की पार्टी केवल अपने प्रियजनों के साथ ही करें। बहुत से लोगों को बुलाने से नकारात्मक ऊर्जा आ सकती है।
2. सभी को गिफ्ट दें: गृह प्रवेश पूजा में शामिल होने वाले प्रत्येक व्यक्ति को कोई न कोई गिफ्ट अवश्य दें। यह चांदी का सिक्का, भगवान की मूर्ति, मिठाई का डिब्बा, या ताजे पौधे हो सकते हैं।
3. मुख्य द्वार को सजाएं: मुख्य द्वार को फूलों से और फर्श को रंगोली से सजाएं। स्वास्तिक जैसे शुभ प्रतीकों का इस्तेमाल करें।

 पूजा की विधि

1. वास्तु पूजा: गृह प्रवेश पूजा तब तक पूरी नहीं होती जब तक वास्तु पूजा नहीं होती। घर की छत को न ढका जाए और दरवाजों को शटर से सुसज्जित न किया जाए। पुजारियों को भोग लगाना चाहिए।
2. हवन करें: नए घर में शांति और समृद्धि को आमंत्रित करने के लिए हवन करना चाहिए। हवन के साथ गणेश पूजा, वास्तु दोष पूजा और नवग्रह शांति पूजा भी की जानी चाहिए।
3. शंख बजाएं: पूजा के दौरान शंख जरूर बजाएं। शंख बजाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।
4. मंगल आरती: पूजा के अंत में कपूर का दीपक जलाकर मंगल आरती करें। घंटी या शंख बजा सकते हैं और पूजा में चढ़े हुए नारियल को तोड़कर प्रसाद के रूप में सभी को वितरित करें।

 अन्य महत्वपूर्ण बातें

1. रसोई में दूध उबालें: गृह प्रवेश के दिन रसोई में चूल्हा जलाकर दूध उबालें। इसमें चावल और चीनी मिलाकर खीर बनाएं और इसे प्रसाद के रूप में बांटें।
2. घर में तीन दिन रहें: गृह प्रवेश पूजा के बाद कम से कम तीन दिन नए घर में रहें और घर को खाली न छोड़ें।
3. साफ-सफाई और सजावट: पूरे घर की साफ-सफाई करें और प्रवेश द्वार को फूलों से सजाएं। रंगोली बनाएं और घर में गंगाजल का छिड़काव करें।

 क्या न करें griha pravesh

1. अधूरा घर न लें: अगर घर का निर्माण पूरा नहीं हुआ है, दरवाजे, खिड़कियां, छत आदि अधूरी हैं तो घर में प्रवेश न करें।
2. काले रंग के कपड़े न पहनें: गृह प्रवेश के लिए काले रंग के कपड़े पहनने से बचें।
3. गर्भवती महिला के साथ प्रवेश: अगर परिवार में कोई गर्भवती महिला है या किसी की मृत्यु हो गई है तो नए घर में शिफ्ट न हों।

 

गृह प्रवेश पूजा विधि का पालन करके अपने नए घर में सुख, समृद्धि और शांति का स्वागत करें। पूजा में शामिल होने वाले सभी को प्रसाद दें और उन्हें खाली हाथ घर से न जाने दें।

गृह प्रवेश पूजा सामग्री:

– नारियल – 2
– देसी घी
– हवन सामग्री
– आम की सूखी लकड़ियां
– सुपारी
– शरद – 50 ग्राम
– जौ
– हल्दी – 50 ग्राम
– लौंग – 10 ग्राम
– गुड़, मिश्री (चीनी के पत्थर जैसे जमे हुए कण) – 50 ग्राम
– काले तिल
– गंगा जल (एक बोतल)
– हरी इलायची – 10 ग्राम
– साबुत चावल (500 ग्राम)
– बड़ा दीया
– चौकी
– पान की पत्तियां (10), तुलसी के पत्ते
– पंच मेवा (5 तरह के फल)
– तांबे का कलश
– आटा
– रोली या कुमकुम (एक पैकेट)
– पांच तरह का मीठा
– रुई
– आम या अशोक के पेड़ की पत्तियां
– मौली – 2 रॉल
– पांच तरह के फल
– पीला कपड़ा
– अगरबत्ती – एक पैकेट
– उपनयन या जनेऊ
– फूल और फूलों की माला
– लाल कपड़ा
– दही
– बिना उबला हुआ दूध 1/4 लीटर
– धूप बत्ती
– कपूर – एक पैकेट
– हवन कुंड

 

griha pravesh पूजा कैसे करें:

1. सुनिश्चित करें कि घर तैयार हो और पूजा के लिए सभी सामग्री उपलब्ध हों।
2. पूजा स्थल को सजाने के लिए माला, रंगोली और आम के पत्ते का उपयोग करें।
3. गंगाजल, फल, फूल और पंचामृत से भरे हुए दीपक और कलश को पूजा स्थल के पास रखें।
4. चूल्हा जलाएं और एक नए बर्तन में चावल और दूध उबालें।
5. कपूर या अगरबत्ती जलाएं और आरती के समय शंख बजाएं।
6. मीठा गुड़ का होना चाहिए और पांच प्रकार के सूखे मेवे चढ़ाएं।
7. गृह प्रवेश पूजा के दौरान मंत्रों का जाप करें और भगवान गणेश को आराधना करें।
8. अन्य देवताओं को भी पूजा करें और उन्हें अर्पण करें।
9. फल, प्रसाद और दीपक चढ़ाएं और भोग लगाएं।
10. सभी परिवार के सदस्यों को प्रसाद बाँटें और पूजा समाप्ति के बाद शुभकामनाएँ दें।

 

यहीं तो गृह प्रवेश पूजा के अनुसरणीय कदम हैं! किसी भी पूजा या अनुष्ठान के दौरान, यदि आपको

किराए के घर में गृह प्रवेश समारोह आयोजित करना बहुत ही शुभ माना जाता है। यदि आप अपने किराए के घर में गृह प्रवेश समारोह की योजना बना रहे हैं, तो यहाँ कुछ बदलाव कर सकते हैं ताकि समारोह और अधिक विशेष और अनुकूल हो:  griha pravesh

 

1. आकर्षक रंगों का उपयोग: समारोह के लिए आकर्षक रंगों का चयन करें। प्राकृतिक और शांति प्रद रंगों का उपयोग करें जैसे हरा, नीला, और पीला।

 

2. गृह प्रवेश पूजा की सामग्री: गृह प्रवेश पूजा के लिए सामग्री की व्यवस्था करें। यहाँ विभिन्न आवश्यकताओं के लिए आवश्यक सामग्री शामिल हो सकती है, जैसे कलश, दीपक, माला, अचमनीय, और पूजनीय पदार्थ।

 

3. पंडित या पुजारी का आमंत्रण: यदि आप पंडित या पुजारी को आमंत्रित करना चाहते हैं, तो उन्हें समारोह में शामिल करें और उनसे गृह प्रवेश पूजा का आयोजन करें।

 

4. संगीत और ध्वनि: समारोह में संगीत और ध्वनि का महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। आप संगीत और ध्वनि के माध्यम से गृह प्रवेश समारोह को और अधिक आकर्षक बना सकते हैं।

 

5. मिठाई और प्रसाद: समारोह के अंत में मिठाई और प्रसाद बांटें। इससे समारोह में भाग लेने वाले सभी लोगों को आनंदित महसूस होगा।

 

6. अभिनंदन और शुभकामनाएं: अपने परिवार और मित्रों के साथ अभिनंदन और शुभकामनाओं का आयोजन करें। उन्हें आपके नए घर में स्वागत मिलना चाहिए।

 

पश्चिमी रीति और अनुष्ठानों की संदर्भ में आपने कुछ बहुत ही रोचक जानकारियाँ साझा की हैं। इन परंपराओं को समझना और समालोचना करना वास्तव में रोचक है।

 

एक और विवादित अनुष्ठान जो कुछ समाजों में होता है, वह है ‘सेज के पौधे’ का जलाना। यह एक विशेष प्रकार की परंपरा है जो कुछ लोगों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण होती है। यह उनके लिए एक प्रकार की शुभारंभ का प्रतीक होता है और उन्हें घर में नकारात्मकता से बचाने में मदद करता है। इससे यह भी साबित होता है कि विभिन्न संस्कृतियों और समाजों में अलग-अलग अनुष्ठान और परंपराएं होती हैं, जो हमारे समाज की रोचकता और विविधता को दर्शाती हैं।

 

फ्रांसीसी पारंपरिक अनुष्ठान ‘पेंडाइसन डी क्रेमेलेयर’ के बारे में बताने के लिए धन्यवाद! यह अद्वितीय तरीके से शुक्रिया अदा करने का एक रोचक और समृद्ध ढंग है। यह समझना कि विभिन्न संस्कृतियों में धन्यवाद को अदा करने के भिन्न-भिन्न तरीके होते हैं, हमें हमारे समाज में और अधिक समृद्ध विविधता का अनुभव कराता है।

 

griha pravesh

home entry

Related Posts

Nightfall Rokne Ke Upay in Hindi

रिलेटेड जानी जानेवाली तमाम बीमारियों में से एक है नाईट फॉल यानी स्वप्नदोष। सोते समय वीर्य का स्वतः ही निकल जाना नाईट फॉल कहलाता है। युवावस्था में यह एक आम…

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

health tips रात को सोने से पहले कुछ विशेष कार्यों को करना ज्योतिष शास्त्र में महत्वपूर्ण माना गया है, जो आपके भाग्य को सुधारने में मदद कर सकते हैं। इसमें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

Nightfall Rokne Ke Upay in Hindi

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

Rahul Gandhi

Rahul Gandhi

Tank vs Martin

Tank vs Martin

Meloni

Meloni

Eid ul Adha

Eid ul Adha