Mon. May 27th, 2024

dark web kya h

dark web

डार्क वेब (Dark Web) वास्तव में इंटरनेट का एक हिस्सा है जो आम लोगों के लिए सामान्य तरीके से उपलब्ध नहीं होता है। यह विशेष तरीके से डिज़ाइन किया गया है ताकि उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता और अनूठापन को संरक्षित रखा जा सके।

dark web kya h

डार्क वेब के भीतर वैध और अवैध गतिविधियों का संचालन किया जाता है, जिसमें अपराधी गतिविधियाँ जैसे कि ड्रग्स, हैकिंग, अवैध वस्त्रों की बिक्री, आतंकवादी क्रियाओं को बढ़ावा देना, गोपनीयता के उल्लंघन, और अन्य अवैध गतिविधियाँ शामिल होती हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट का लगभग 96 फीसदी हिस्सा डीप वेब और डार्क वेब के अंदर आता है, जिसमें डार्क वेब का हिस्सा अधिकतर अनदेखा रहता है और यह अवैध गतिविधियों के लिए एक संरचित मंच के रूप में काम करता है।

जी हां, आपकी बात सही है। इंटरनेट की दुनिया वास्तव में हमारी सोच से बहुत बड़ी है। हम आमतौर पर उस छोटे से हिस्से को देखते हैं जो हमारे उपयोग के लिए सामान्य होता है, लेकिन वास्तव में इंटरनेट में लाखों वेबसाइट्स, ऑनलाइन सेवाएं, और डेटा हैं, जिनका हम ज्यादातर अवगत नहीं होते।

इस बड़ी दुनिया में कई ऐसे राज छिपे हुए हैं जो आमतौर पर लोगों को पता नहीं होते। ये राज अलग-अलग विषयों में हो सकते हैं, जैसे तकनीक, व्यापार, सरकारी कार्य, गोपनीयता, और अन्य क्षेत्र। इस तरह के राज और गहराईयों को समझने के लिए लोगों को निरंतर जागरूक और जांच-परख के लिए रहना चाहिए।

आपकी बात सही है। डार्क वेब के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी होती है, और बहुत से लोगों को यह समझने में कठिनाई होती है कि वास्तव में डार्क वेब क्या है और वहां कैसी गतिविधियाँ होती हैं।

डार्क वेब पर विभिन्न प्रकार की अवैध गतिविधियाँ होती हैं, जैसे कि ड्रग्स और नशे, बच्चों के लिए अनुचित सामग्री, हैकिंग टूल्स और सेवाएं, अपराधी समूहों के लिए उपकरण और सेवाएं, अवैध वस्त्रों और अनैतिक सामग्री, गोपनीयता के उल्लंघन, और बहुत कुछ। इसके अलावा, डार्क वेब उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता को संरक्षित करने के लिए एक प्रमुख स्थान भी है, जिसमें कुछ लोग गोपनीय संदेशों और डेटा को साझा करते हैं। dark web 

लेकिन डार्क वेब पर पहुंचना और वहां से कुछ भी खरीदना या बेचना अवैध है, और इसका संभावित दंड हो सकता है। इसलिए, लोगों को सतर्क रहना और इंटरनेट पर सुरक्षित रहने के लिए अपनी जानकारी और गोपनीयता को संरक्षित रखने के लिए सावधानी बरतनी चाहिए।

आपने डार्क वेब के बारे में बहुत सही जानकारी दी है। यह वाकई एक ऐसा हिस्सा है जहां विभिन्न प्रकार की गतिविधियों को संचालित किया जाता है, जिनमें वैध और अवैध दोनों तरीके के काम शामिल हैं। डीप वेब और डार्क वेब का बड़ा हिस्सा इंटरनेट का होता है, और इसमें विभिन्न प्रकार के कंटेंट उपलब्ध होते हैं, जिनको सामान्य तरीके से एक्सेस नहीं किया जा सकता।

डीप वेब पर उपलब्ध कंटेंट को एक्सेस करने के लिए विशेष प्रकार के पासवर्ड या अन्य प्रमाणीकरण की आवश्यकता होती है, जो उपयोगकर्ताओं की सुरक्षा और गोपनीयता को सुनिश्चित करता है। वहीं, डार्क वेब को खोलने के लिए टॉर ब्राउज़र का उपयोग किया जाता है, जो उपयोगकर्ताओं को गोपनीयता और एनोनिमिटी प्रदान करने में मदद करता है।

डार्क वेब पर विभिन्न प्रकार के अवैध कार्य किए जाते हैं, जैसे कि ड्रग्स, हथियार, अवैध सामग्री, और अन्य अपराधिक गतिविधियाँ। यहां कुछ लोग अपराधिक गतिविधियों के लिए अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए आते हैं, जो सामान्य इंटरनेट पर अधिकांशत: संभव नहीं होता।

डार्क वेब ओनियन रूटिंग टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है, जिसमें यूजर्स को ट्रैकिंग और सर्विलेंस से बचाने के लिए उनकी गोपनीयता को सुनिश्चित किया जाता है। इस टेक्नोलॉजी में, जब एक उपयोगकर्ता डार्क वेब पर साइट का अनुरोध करता है, तो उनका ट्राफिक कई वेब सर्वरों के माध्यम से रूट किया जाता है। यह उपयोगकर्ताओं की आईपी एड्रेस को छिपाने और उनकी गोपनीयता को सुरक्षित रखने में मदद करता है।

इस प्रक्रिया में, यूजर की जानकारी इंक्रिप्ट की जाती है, जिससे उसे ट्रैक करना असंभव हो जाता है। इसके अलावा, डार्क वेब पर विभिन्न गतिविधियों को संभावित रूप से अवैध बनाने के लिए वर्चुअल करेंसी जैसे बिटकॉइन का इस्तेमाल किया जाता है। यह इसलिए होता है क्योंकि बिटकॉइन लेन-देन को प्राइवेट रखने में मदद करता है, जिससे उन्हें ट्रेस किया नहीं जा सकता।

इस तरह, डार्क वेब उपयोगकर्ताओं को अपनी गोपनीयता को संरक्षित रखने में मदद करता है, जिससे उन्हें अवैध गतिविधियों से बचाया जा सकता है।

डार्क वेब पर यहां तक कि ये तरह के स्कैम भी होते हैं। हत्याओं की सुपारी, हथियारों की तस्करी, और पर्सनल डिटेल्स के लिए धमकी देना जैसी गतिविधियाँ डार्क वेब पर उपलब्ध हो सकती हैं। इसके अलावा, कुछ स्कैमर्स नकली या बैन चीजों को सस्ते में बेचने का प्रयास कर सकते हैं और उनसे अपराधिक कार्रवाई करवाने का धमका देते हैं।

इन स्कैमों में, लोग अक्सर धोखाधड़ी के शिकार हो जाते हैं और अपनी धनराशि खो देते हैं। उन्हें लगता है कि वे कुछ सस्ते में खरीद रहे हैं, लेकिन वास्तव में वे धोखे में पड़ जाते हैं और अपनी पैसों को गंवा देते हैं।

डार्क वेब पर ऐसे स्कैमों से बचने के लिए, लोगों को सतर्क और जागरूक रहना चाहिए। वे किसी भी अविश्वसनीय साइट से सावधानी बरतें और किसी भी प्रकार की संदेहजनक गतिविधि की सूचना स्थानीय अधिकारियों को दें।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *