Sun. May 26th, 2024

अकबर बीरबल की कहानी सबसे बड़ी बात Akbar Birbal

Table of Contents

अकबर बीरबल की कहानी सबसे बड़ी बात Akbar Birbal

Akbar Birbal
Akbar Birbal

एक दिन की बात है, बीरबल दरबार में उपस्थित नहीं थे। इसका फायदा उठाकर कुछ मंत्री महाराज अकबर से बीरबल के खिलाफ कानाफूसी करने लगे। उनमें से एक कहने लगा, “महाराज! आप हर जिम्मेदारी बीरबल को ही देते हैं और हर काम में उसकी सलाह ली जाती है। इसका मतलब है कि आप हमें अयोग्य समझते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है, हम भी बीरबल की तरह ही काबिल हैं

महाराज बीरबल से बहुत प्रेम करते थे। वह अपने ख़िलाफ़ कुछ भी सुनना नहीं चाहता था, लेकिन मंत्रियों को निराश न करने के लिए उसने एक समाधान निकाला। उन्होंने उनसे कहा, “मैं आप सभी के एक प्रश्न का उत्तर देना चाहता हूं। परंतु ध्यान रहे कि यदि तुम लोग इसका उत्तर नहीं दे पाये तो तुम सभी को मृत्युदंड दिया जायेगा।” दरबारियों ने झिझकते हुए राजा से कहा, “ठीक है… ठीक है, राजा! हमें आपकी शर्त मंजूर है, लेकिन पहले आप सवाल पूछें।” राजा ने पूछा, “दुनिया की सबसे बड़ी चीज़ क्या है?” यह प्रश्न सुनकर सभी मंत्री एक-दूसरे की ओर देखने लगे। उसकी हालत देखकर महाराज ने कहा, “याद रखो कि इस प्रश्न का उत्तर सटीक होना चाहिए। “मुझे कोई अजीब जवाब नहीं चाहिए

Akbar Birbal
Akbar Birbal

इस पर मंत्रियों ने राजा से इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए कुछ दिनों का समय मांगा। राजा भी इस पर सहमत हो गये। महल से बाहर आकर सभी मंत्री इस प्रश्न का उत्तर खोजने लगे। पहले ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी चीज़ भगवान है, जबकि दूसरे ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी चीज़ भूख है। तीसरे ने दोनों के उत्तरों को अस्वीकार कर दिया और कहा कि ईश्वर कोई वस्तु नहीं है और भूख भी सहन की जा सकती है। इसलिए राजा के प्रश्न का उत्तर इनमें से कुछ भी नहीं है

धीरे-धीरे समय बीतता गया और सारे दिन भी बीत गये। फिर भी जब राजा को पूछे गए प्रश्न का उत्तर नहीं मिला तो सभी मंत्रियों को अपनी जान का भय सताने लगा। कोई अन्य उपाय न पाकर वे सभी बीरबल के पास पहुँचे और उन्हें अपनी सारी कहानी बतायी। बीरबल को इसकी जानकारी पहले से ही थी. उसने उनसे कहा, “मैं तुम्हारी जान बचा सकता हूँ, लेकिन जैसा मैं कहूँगा तुम्हें वैसा ही करना होगा।” सभी लोग बीरबल की बात से सहमत हो गये। अगले ही दिन बीरबल ने एक पालकी की व्यवस्था की। उन्होंने दो मंत्रियों को पालकी उठाने का काम दिया, तीसरे से अपना हुक्का उठवाया और चौथे से अपने जूते उठवाये और स्वयं पालकी में बैठ गये। फिर उसने उन सभी को राजा के महल की ओर बढ़ने का संकेत किया

जब सभी लोग बीरबल के साथ दरबार में पहुँचे तो राजा यह दृश्य देखकर आश्चर्यचकित रह गये। इससे पहले कि वे बीरबल से कुछ पूछते, बीरबल ने खुद ही बादशाह से कहा, “महाराज! दुनिया की सबसे बड़ी चीज़ ‘गरज’ है. यह उनकी आवश्यकता ही है कि वे सभी मेरी पालकी उठाकर यहां ले आये हैं।” यह सुनकर राजा अपनी मुस्कान नहीं रोक सके और सभी मंत्री शर्म से सिर झुकाकर खड़े हो गये। कहानी से सीख- इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें कभी भी किसी की काबिलियत से ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए, बल्कि उससे सीख लेकर खुद को बेहतर बनाने का प्रयास करना चाहिए

 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *