Sun. May 26th, 2024

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा क्या आप जानते हैं amazing fact

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा
दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा क्या आप जानते हैं

केन्या की किटम गुफा पहले से ही इबोला और मारगबर्ग जैसे कई वायरस को पैदा करने के लिए जिम्मेदार माना जाता है, और वैज्ञानिकों का मानना है कि चमगादड़ों से फैलने वाला मारबर्ग वायरस इस गुफा से निकलकर दुनिया में महामारी फैला सकता है. कोविड महामारी ने जिस तरह से लाखों करोड़ों की जानें ली थीं, ऐसे ही मारबर्ग वायरस की फैलाव के मामले में भी आकस्मिक और गंभीर परिणाम हो सकते हैं

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा
दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा

मारबर्ग वायरस का प्रकोप चमगादड़ों के माध्यम से होता है, जो किटम गुफा में निवास करते हैं और उनके विद्रोहकारी संपर्क से यह वायरस व्यापक रूप से फैल सकता है. यदि इस गुफा से मारबर्ग वायरस निकलकर मानवों में फैलता है, तो इससे भी कोविड-19 की तरह भयानक परिणाम हो सकते हैं, जिससे लाखों लोगों को संक्रमित होने का खतरा हो सकता है और समाज को व्यापक रूप से प्रभावित किया जा सकता है

सबसे बड़ा सांप कौन-सा है क्या आप जानते हैं इसका जवाब titanoboa or anaconda

इसलिए, मारबर्ग वायरस जैसी जानलेवा बीमारियों के प्रकोप को रोकने के लिए सुरक्षा के उपायों को बढ़ाने और इसके प्रसार को रोकने के लिए सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है। वैज्ञानिकों को इस खतरे को समझने और उसका सामना करने के लिए अधिक अनुसंधान करने की आवश्यकता है ताकि सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित की केन्या के माउंट एल्गॉन नेशनल पार्क के केंद्र में ज्वालामुखी के भीतर किटम नाम की एक गुफा स्थित है।

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा
दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा

बताया जाता है कि ये गुफा हाथियों के दांतों से बनी है, जो नमक के लिए दीवारों को कुरदेने के लिए जाते हैं। ये गुफ़ा इंसान के लिए कुछ सबसे घातक बीमारियाँ पैदा करने वाले कीतनुओं का स्थान मानी जाती है।1980 में पास की एक चीनी फैक्ट्री के एक फ्रांसीसी इंजीनियर को कितुम गुफा में जाने से मारबर्ग वायरस का संक्रमण हो गया था। शहर में वायरस के कारण नैरोबी के एक अस्पताल में हमारे इंजीनियर की मौत हो गई थी

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा
दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा

इस घाटना के सात साल बाद, कितुम गुफा ने एक और जान ले ली। ये एक डेनिश स्कूली छात्र था जो अपने परिवार के साथ छुट्टियाँ पार कर गया था। लड़के की मौत जिस वायरस से हुई थी, उसे अब रीवायरस कहा जाता है। गुफा के मुल्यवान नमकीन खानिजों को तो इस्तेमाल करें हाथियों के साथ ही, बालकी पश्चिम केन्या के भैंसों, मृग, तेंदुओं और लकड़बागों के लिए भी एक उपहार बना दिया है,

दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा
दुनिया की सबसे खतरनाक गुफा

लेकिन विज्ञानियों को अब एहसास हुआ कि खानिजों ने कितुम को जूनोटिक रोगोन के लिए एक इनक्यूबेटर में बदल दिया है। जब कितुम की पहली बार खोज की गई थी, तब शोधकर्ताओं को ये नहीं पता था कि इसकी दीवारों पर खरोचों और खरोचों का क्या मतलब समझा जाए। ये एहसास बाद में हुआ कि 600 फुट गहरी गुफा को हाथियों द्वारा लगाता गहरा और चौड़ा किया गया था, जो केवल रोगन फैलाने वाले चमगादड़ों का आश्रय स्थल बन गया था।

amazing fact

 

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *