चिराग पासवान

तमाम असफलताओं के बावजूद, चिराग पासवान ने नरेंद्र मोदी के प्रति अपनी निष्ठा फिर से जताई और खुद को नरेंद्र मोदी का हनुमान बताया। यही कारण था कि भाजपा ने चिराग के लिए अपने दरवाजे कभी बंद नहीं किए और उन्हें संतुष्ट रखा।

चिराग पासवान

बिहार और देश की राजनीति में चिराग पासवान एक अद्भुत राजनीतिक बदलाव की कहानी हैं। 2020 में पिता रामविलास पासवान के निधन के बाद, चिराग के नेतृत्व में पार्टी ने बिहार में पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ा। इस चुनाव में चिराग ने जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) और नीतीश कुमार पर हमला बोला।

 

चिराग ने पार्टी को एनडीए से बाहर कर लिया। नतीजों में भले ही पार्टी केवल एक सीट जीत पाई, लेकिन इसके कुछ महीनों बाद ही एलजेपी में विभाजन हो गया। 2021 की शुरुआत में, चिराग के चाचा पशुपति कुमार पारस, छह में से चार सांसदों के साथ, मोदी सरकार में शामिल हो गए। इस तरह, चिराग राजनीतिक गुमनामी में चले गए, जहां वे न केवल एनडीए से बाहर हो गए, बल्कि पार्टी का चुनाव चिन्ह भी पारस गुट के पास चला गया। चिराग ने अपनी पार्टी के विभाजन के लिए सीधे तौर पर नीतीश कुमार और जेडीयू को जिम्मेदार ठहराया। उस समय, भाजपा ने भी राजनीतिक समीकरणों के कारण चिराग की मदद नहीं की। चिराग पासवान

चिराग पासवान

मोदी ने घोषित किया हनुमान

तमाम असफलताओं के बावजूद, चिराग ने नरेंद्र मोदी के प्रति अपनी निष्ठा फिर से जताई और खुद को नरेंद्र मोदी का हनुमान घोषित कर दिया। यही कारण था कि भाजपा ने चिराग के लिए अपने दरवाजे कभी बंद नहीं किए और उन्हें संतुष्ट रखा। इस बीच, चिराग ने बिहार में अपनी आशीर्वाद यात्रा के साथ कदम रखा और दिखाया कि दलित मतदाता उन्हें रामविलास पासवान का असली वारिस मानते हैं। जब प्रधानमंत्री मोदी ने पासवान की पहली पुण्यतिथि पर चिराग को एक भावनात्मक पत्र लिखा, तो एनडीए के दरवाजे एक बार फिर उनके लिए खुल गए। चिराग पासवान

 

परिपक्व नेता होने का प्रमाण दिया

हालांकि कई लोग तर्क देते हैं कि चिराग का बिहार में केवल 5 फीसदी पासवान समुदाय के वोटों पर नियंत्रण है, लेकिन उन्होंने अपनी पार्टी के हिस्से में आई सभी पांच सीटों पर जीत हासिल की। साथ ही उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि राज्य में अन्य सीटों पर, जहां एनडीए के उम्मीदवार मैदान में हैं, वहां भी दलितों के वोट मिले। इस प्रकार, उन्होंने एक परिपक्व राजनेता होने का प्रमाण दिया। चिराग ने खुद अपनी सीट पर लालू यादव की आरजेडी के शिवचंद्र राम को 1.7 लाख वोटों से हराया। इसके अलावा, 2020 के विधानसभा चुनावों के विश्लेषण से पता चलता है कि चिराग ने भाजपा और जेडीयू को 54 सीटों पर खासा नुकसान पहुंचाया। इसी वजह से जेडीयू 70 में से सिर्फ 43 सीटें ही जीत पाई। इस तरह, चिराग ने साबित किया कि वे बिहार की राजनीति में बड़ा उलटफेर करने में सक्षम हैं।

चिराग पासवान

Related Posts

Nightfall Rokne Ke Upay in Hindi

रिलेटेड जानी जानेवाली तमाम बीमारियों में से एक है नाईट फॉल यानी स्वप्नदोष। सोते समय वीर्य का स्वतः ही निकल जाना नाईट फॉल कहलाता है। युवावस्था में यह एक आम…

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

health tips रात को सोने से पहले कुछ विशेष कार्यों को करना ज्योतिष शास्त्र में महत्वपूर्ण माना गया है, जो आपके भाग्य को सुधारने में मदद कर सकते हैं। इसमें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

Nightfall Rokne Ke Upay in Hindi

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

रात को सोने से पहले करें विशेष काम

Rahul Gandhi

Rahul Gandhi

Tank vs Martin

Tank vs Martin

Meloni

Meloni

Eid ul Adha

Eid ul Adha