Sun. May 26th, 2024

आंखों से आंसू क्यों आते हैं facts

आंखों से आंसू क्यों आते हैं facts

आंखों से आंसू क्यों आते हैं
आंखों से आंसू क्यों आते हैं

आंखों से आंसू क्यों आते हैं: अक्सर आपने देखा होगा कि जब भी कोई रोता है तो उसकी आंखों से आंसू आने लगते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि रोते समय आंखों में आंसू क्यों आते हैं? आंसुओं की असली वजह क्या है? आख़िर भावनाओं और आंसुओं का क्या संबंध है? दरअसल, आंखों से आंसू आने के पीछे भी विज्ञान है। आइए जानते हैं कि रोने पर आने वाले आंसुओं के पीछे क्या विज्ञान है और इसका कारण क्या है

आंसुओं के प्रकार आंसू तीन प्रकार के होते हैं. सबसे पहले आंसू वो आते हैं जो एलर्जी, इंफेक्शन या आंखों में किसी समस्या के कारण आते हैं। इन संक्रमित आंखों को पानी वाली आंखें कहा जाता है और ये आंसू तब आते हैं जब आंखों में कोई समस्या हो जाती है। दूसरे आंसू वे होते हैं जो तेज हवा या मौसम आदि के कारण आंखों में आते हैं। लेकिन तीसरे प्रकार के आंसू भी होते हैं, जो हमारे रोने या भावनाओं के कारण आते हैं

आंखों से आंसू क्यों आते हैं
आंखों से आंसू क्यों आते हैं

जब हम रोते हैं तो आंसू क्यों आते हैं? जब भी हम किसी भावना के चरम पर पहुंचते हैं तो हमारी आंखों में आंसू आने लगते हैं। इसका कारण यह है कि जब भी कोई भावुक होता है या किसी भावना के चरम पर होता है तो शरीर में कई तरह की प्रतिक्रियाएं होने लगती हैं। यह दुखद या सुखी, किसी भी समय हो सकता है। अत्यधिक खुशी में भी आंखों से आंसू आ जाते हैं। इसके अलावा जब हम बहुत ज्यादा गुस्से में होते हैं या बहुत ज्यादा डरे हुए होते हैं तो भी हमारी आंखों से आंसू निकलते हैं

गर्म पानी पीने के कई फायदे होते हैं facts

हम कभी-कभी अपनी भावनाओं के एक्सट्रीम पर पहुंचने पर रोते हैं। इस प्रक्रिया में, शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव भी होते हैं, जैसे कि एड्रेनालिन लेवल में परिवर्तन। ये हार्मोन्स आंखों पर सीधा प्रभाव डालते हैं, जिसके कारण आंखों में पानी आने लगता है। आंसूओं की तीसरी श्रेणी, यानी क्राइंग आंसू, भावनात्मक प्रतिक्रिया के रूप में आते हैं

वास्तव में, हमारे मस्तिष्क में एक लिंबिक सिस्टम होता है, जिसमें ब्रेन का हाइपोथैलेमस होता है, जो नर्वस सिस्टम से सीधे संपर्क में रहता है। यही सिस्टम न्यूरोट्रांसमीटर के संकेत को स्वीकार करता है और किसी भावना के एक्सट्रीम पर हम रो देते हैं

रोना फायदेमंद है आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है, लेकिन अगर आप बहुत अधिक भावुक होने पर रोते हैं तो यह आपके शरीर के लिए अच्छा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि रोने से न सिर्फ आंखों की सेहत बल्कि मानसिक सेहत भी बेहतर होती है

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *